स्वयं सहायता समूह में सुरक्षा सखी की नई नौकरी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी निकल कर सामने आ रही है आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को समूह के माध्यम से सुरक्षा सखी की नई नौकरी निकल कर सामने आ रही है आप सभी महिलाएं सुरक्षा सखी बन सकते हैं आइए जानते हैं

सुरक्षा सखी की नौकरी समूह की महिलाओं कैसे मिलेगी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिजली सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को अपराधियों को रोकथाम करने के लिए उन सभी महिलाओं को जागरूक किया जाएगा साथ ही साथ पुलिस के माध्यम से सुरक्षा सुरक्षा योजना की शुरुआत की जा रही है इसके माध्यम से बड़े पैमाने पर महिलाओं को सुरक्षा सचिव बनाया जाएगा महिलाओं की सुरक्षा के लिए पुलिस सुरक्षा सूची योजना के लिए अहम कड़ी की शुरुआत की गई है

क्या है सुरक्षा सखी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में हुई सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को समूह के गठन के माध्यम से सुरक्षा सखी की नई नौकरी दी जाएगी उन सभी महिलाओं को सुरक्षा सेफ्टी के माध्यम से पुलिस मुख्यालय के आदेशों के बाद सभी जिलों में पुलिस सुरक्षा सखी के इस नए कदम को उठाया गया है इसमें महिलाओं और बालिकाओं की सुरक्षा अधिकारों और कानून के प्रति जागरूक करने के लिए सुरक्षा सखी की शुरुआत की गई है

समूह में सुरक्षा सखी के काम क्या है

आप सभी महिलाओं को बता दें कि सुरक्षा सच्ची को गठन कर कर स्वयं सहायता समूह को महिलाओं को और नाबालिग बच्चों को अपराधों को रोकथाम करने के लिए सुरक्षा सखी का गठन किया जाएगा इसके माध्यम से सुरक्षा सखी की भर्तियां की जाएगी इन के माध्यम से महिलाओं को सुरक्षा सचिव बनाकर उन्हें अपराधों और रोकथाम करने के लिए प्रति जागरूक किया जाएगा ताकि वह पुलिस के साथ जुड़कर सुरक्षा सखी योजना के माध्यम से महिला सुरक्षा का जिम्मा उठा सकें इस योजना के माध्यम से महिलाओं को जागरूक किया जाएगा और महिला सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा योजना की शुरुआत की गई है

स्वयं सहायता समूह में सुरक्षा सखी की कौन-कौन सी महिलाएं आवेदन कर सकती हैं

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाएं सुरक्षा सखी के पद पर कार्य कर सकते हैं आप सभी समूह की महिलाओं की उम्र 18 से 70 वर्ष के बीच में होनी चाहिए आप सभी महिलाओं को अपने आसपास के सभी क्षेत्र के लड़कियों को और महिलाओं को सुरक्षा और कानून के प्रति जागरूक करना होगा ताकि लोगों में जागरूकता बनी रहे इसके लिए आप सभी महिलाओं को स्थानीय पुलिस के संवाद स्थापित करना होगा इच्छुक महिलाओं और बालिकाओं को शामिल करना होगा और उन सभी महिलाओं को अपराधी रिकॉर्ड नहीं होना चाहिए इस बात का आपको विशेष ध्यान रखना होगा

[sc_fs_multi_faq headline-0=”h2″ question-0=”स्वयं सहायता समूह में सुरक्षा सखी योजना क्या है” answer-0=”राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को सुरक्षा सखी के पद पर कार्य करने के लिए साथ ही साथ महिलाओं को जागरूक कर कर उन्हें आत्मनिर्भर और समाज में महिलाओं को सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए सुरक्षा सखी योजना शुरू की गई है” image-0=”” headline-1=”h2″ question-1=”स्वयं सहायता समूह में सुरक्षा सखी के लिए कितनी आयु सीमा होनी चाहिए” answer-1=”राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में जुड़ी सभी महिलाओं को आयु सीमा सुरक्षा सखी के कार्य के लिए 18 से 70 वर्ष के बीच में होना चाहिए” image-1=”” headline-2=”h2″ question-2=”समूह में सुरक्षा सखी योजना क्यों शुरू की गई” answer-2=”स्वयं सहायता समूह में इस योजना का केवल यही उद्देश्य है कि महिलाओं को अपराध दो को रोकना और समूह की महिलाओं को जागरूक करना तथा महिलाओं को पुलिस के लिए आंख कान खुले रखकर काम करना और महिलाओं को आत्मनिर्भर और जागरूक करना और साथ ही साथ अपराधों पर लगाम लगाने के लिए शुरू की गई योजना है” image-2=”” count=”3″ html=”true” css_class=””]

Join the Conversation

1 Comment

Leave a comment

Your email address will not be published.