स्वयं सहायता समूह में उपस्थित और बचत पुस्तक कैसे लिखें

 अगर आप सभी महिलाओं को उपस्थित और बचत पुस्तक के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहती हैं तो आप सभी महिलाओं को हमारा यह आर्टिकल पूरा पढ़ना होगा 
 
आज के इस आर्टिकल में हम आप सभी महिलाओं को बताएंगे कि उपस्थित और बचत पुस्तक किसे कहते हैं उपस्थित और बचत पुस्तक के फायदे उपस्थित और बचत पुस्तक से जुड़ी सभी प्रश्न आज हम आप सभी को इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे आइए जानते हैं विस्तार से पूरी जानकारी विस्तार से

 

स्वयं सहायता समूह में उपस्थित और बचत पुस्तक किसे कहते हैं

 स्वयं सहायता समूह में सभी सदस्यों को उपस्थिति और बचत विवरण को लिखने की पुस्तक को उपस्थित और बचत पुस्तक कहते हैं

 स्वयं सहायता समूह में उपस्थित और बचत पुस्तक के फायदे

  •  स्वयं सहायता समूह प्रत्येक सदस्य को उपस्थिति की जानकारी कुल उपस्थिति की जानकारी समूह की हर सदस्य को होनी चाहिए
  •  स्वयं सहायता समूह प्रत्येक सदस्य को व्यक्तिगत बचत और समूह के कुल बचत की जानकारी प्राप्त होती है
  •  स्वयं सहायता समूह में प्रत्येक सदस्य समूह का नियम पालन सही से कर रही है कि नहीं इसके बारे में उपस्थित और बचत पुस्तक से पता चलता है
  •  स्वयं सहायता समूह में सभी सदस्यों को बचत करने का तारीख इससे पता चलता है

 

स्वयं सहायता समूह में उपस्थित और बचत पुस्तक लिखते समय कुछ ध्यान देने वाली बातें जो लेखपाल को जानना चाहिए

  •  स्वयं सहायता समूह में प्रत्येक महिने में होने वाले बैठकों की उपस्थिति ओर बचत का विवरण एक ही पन्ना में लिखना जरूरी है।
  • स्वयं सहायता समूह में  पन्ने के ऊपर महिने का नाम लिखना जरूरी है।
  •  स्वयं सहायता समूह की उपस्थिति और बचत पुस्तिका में सदस्याओं का नाम क्रमानुसार हर पन्ने पर लिखना चाहिए। 
  • स्वयं सहायता समूह की उपस्थिति और बचत पुस्तिका में पिछले महीने तक का कुल उपस्थिति संख्या और कुल बचत की राशि लिखना चाहिए
  •  स्वयं सहायता समूह में उपस्थिति और बचत पुस्तिका में बैठक की संख्या तिथि (दिनांक) लिखना चाहिए। 
  •  स्वयं सहायता समूह में प्रत्येक सदस्य उपस्थिति हुए तो “उ” और ना हुए तो अउ” और देर से आए तो “दे” लिखना चाहिए।
  • अगर कोई सदस्य बचत जमा करे तो बचत राशि लिखना है। बचत जमा ना किया तो ( -) लिखना चाहिए। 
  •  अगर कोई सदस्य अगली बैठक में पिछली बैठक का बचत जमा किया तो इसी बैठक में लिखना चाहिए।
  •  अगर कोई सदस्य पिछली बैठक का बचत, इसी बैठक का बचत इसी बैठक में जमा करे तो दोनों बचत मिलाके इसी बैठक में लिखना है।
  •  स्वयं सहायता समूह में हर बैठक के अंत मे कुल उपस्थिति संख्या और बचत की राशि पन्ने के नीचे जोड के लिखना है।
  • स्वयं सहायता समूह में महिने के अंत में हर सदस्या का कुल उपस्थिति संख्या और कुल बचत राशि जोड के लिखना है।
  •  स्वयं सहायता समूह में महिने के अंत में समूह का कुल बचत, साधारण खाता बही में बचत राशि बरा बर है या नहीं देखना चाहिए।

 आप सभी महिलाओं को स्वयं सहायता समूह के किसी भी प्रकार की कोई भी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर कर पूछ सकती है अगर आप सभी को हमारा यह जानकारी पसंद आए तो हमारे वेबसाइट को फॉलो अवश्य करें किसी भी प्रकार की कोई भी समस्या है तो हमें कमेंट जरूर करें

Join the Conversation

2 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.