ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर कैसे लिखें

 ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर कैसे लिखें

 आज हम आप सभी महिलाओं को ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर के बारे में बताएंगे अगर आप सभी महिला ग्राम संगठन के बारे में सभी पुस्तकों के बारे में जानकारियां प्राप्त करना चाहती हैं तो आप सभी महिलाएं हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से आप सभी प्रकार की पुस्तकों की जानकारी प्राप्त कर सकती हैं आज हम आप सभी महिलाओं को स्टार्ट और संपत्ति रजिस्टर के बारे में बताएंगे आइए जानते हैं विस्तार से इस आर्टिकल के मदद से पूरी जानकारी

 ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर किसे कहते हैं

 अगर आप सभी महिलाएं स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहती हैं तो सबसे पहले आप सभी महिलाओं को यह जाना पड़ेगा कि स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर होता क्या है ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर विवरण लिखने के लिए पुस्तक को स्टॉक और संपत्ति पुस्तक करते हैं

 ग्राम संगठन में स्टॉक की परिभाषा क्या है

 ग्राम संगठन में अगर कोई व्यापार के उद्देश्य कोई भी वस्तु को खरीदी जाते हैं तो उन चीजों को स्टॉक कहते हैं आप सभी महिलाएं ग्राम संगठन में झाड़ू खरीदनी है पत्तल खरीदती है महुआ खरीदती हैं इमली खरीदती हैं आम खरीद ती है कुसुम खरीदती हैं अगर आप इन सभी चीजों को खरीदते हैं तो इसे स्टॉक माना जाता है


 ग्राम संगठन में संपत्ति की परिभाषा क्या है

 ग्राम संगठन में उपयोग करने के लिए खरीदने की वस्तुओं को संपत्ति कहते हैं अगर आप सभी महिलाएं ग्राम संगठन में किसी भी प्रकार का कोई भी सामान खरीदती है तो उसे संपत्ति कहते हैं जैसे आप अगर अलमारी खरीदती हैं दरी खरीदती हैं श्यामपट्ट खरीदती हैं ड्रम खरीदते हैं आप ग्राम संगठन में पंखा खरीदती हैं अगर आप सभी महिलाएं इन चीजों को खरीद ती है तो उसे संपत्ति कहते हैं

 ग्राम संगठन में स्टॉक और संपत्ति रजिस्टर के फायदे

 1. ग्राम संगठन में कितने स्टॉक खरीद लिये गये हैं कितने बेच दिये गये हैं। और कितना बचा हुआ है उसका विवरण पता चलता है।

2. ग्राम संगठन में उपयोग करने के लिए खरीद किया गया संपत्ति का विवरण हर चीज के अनुसार पता चलता है


 ग्राम संगठन में स्टॉक लिखने का तरीका

 स्टॉक लिखने का तरीका:

1. स्टॉक रजिस्टर में हर चीज़ को कुछ पन्ना छोड़कर पन्ना के संख्या सूचि में लिखना चाहिए।

2. पन्ने के ऊपर चीज का विवरण लिखना है।

3. खरीद करते समय प्रथम कॉलम में क्रमांक, दूसरा कॉलम में खरीदी का दिनांक तीसरा कॉलम में बिल क्रमांक, चौथा कॉलम में खरीद किये गये संस्था या व्यक्ति का नाम पाँचवा कॉलम में खरीद किये गये चीजों की संख्या या किलो, छठवां कॉलम में एक किलो या चीज का दाम, सातवाँ कॉलम में कुल मूल्य लिखना चाहिए।

4. बिक्री करते समय आठवां कॉलम में बिक्री का दिनांक, नौवा कॉलम में रसीद क्रमांक, दसवां कॉलम में बेचे गये संस्था या व्यक्ति का नाम, ग्यारवां कॉलम में बेचे गये चीजों की संख्या या किलो, बारहवा कॉलम में एक एक चीज या किलो का दाम तेरहवा कॉलम में कुल मूल्य, चौदहवां कॉलम में बचे हुये शेष चीजों की संख्या या किलो लिखना है। 

5. पंद्रहवां कॉलम में बचे हुये माल जिस व्यक्ति के पास है उस का हस्ताक्षर करवाना चाहिए।


 स्टॉक रजिस्टर का नमूना

स्टॉक का नाम➡ इमली

 ग्राम संगठन में संपत्ति रजिस्टर लिखने का तरीका

 1. संपत्ति रजिस्टर में हर संपत्ति को एक पन्ना छोड़कर सूचि में लिखना है।
2. पन्ना के ऊपर में संपत्ति का नाम लिखना चाहिए।
3. पहला कॉलम में खरीदी दिनांक लिखना चाहिए।
4. दूसरा कॉलम में बिल क्रमांक लिखना हैं।
5. तीसरा कॉलम में खरीद किये संस्था का नाम लिाना है।
6. चौथा कॉलम में वस्तुओं की संख्या लिखना है।
7. पाचवा कॉलम में वस्तु का दाम लिखना है।
8. छठवा कॉलम में वस्तु का मूल्य लिखना है।
9. सातवा कॉलम में VO के पदाधिकारी का हस्ताक्षर करवाना हैं

ग्राम संगठन में संपत्ति रजिस्टर का नमूना

 संपत्ति का नाम ➡ स्टील ड्रम

 

खरीदारी का नाम

बिल क्रमांक

खरीदे गए संस्था का विवरण

वस्तुओं की संख्या

वस्तु का दाम

वस्तु का कुल मूल्य

हस्ताक्षर

10-05-14

116

पटेल कंपनी 

2

300

600

10-08-14

350

गुप्ता कंपनी

1

700

700

 अगर आप सभी महिलाओं को ग्राम संगठन और स्वयं सहायता समूह से जुड़ी किसी भी प्रकार की कोई भी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकती हैं अगर आप सभी महिलाओं को हमारी यह जानकारी पसंद आ रही है तो हमारे प्रेरणा टीवी चैनल को फॉलो अवश्य करें किसी भी प्रकार की कोई भी समस्या है तो हमें कमेंट जरूर करें

 

CategoriesVOA

Leave a Reply

Your email address will not be published.