स्वयं सहायता समूह में मासिक प्रतिवेदन क्या है समूह की महिलाएं तुरंत जाने मासिक प्रतिवेदन के बारे में

 

 स्वयं सहायता समूह में मासिक प्रतिवेदन क्या है

 स्वयं सहायता समूह में मासिक प्रतिवेदन क्या है



स्वयं सहायता समूह की महिलाएं अगर आप सभी लोग मानसिक प्रतिवेदन के बारे में जानना चाहते हैं तो आप सभी को हम बता देना चाहते हैं कि आप सभी को मानसिक प्रतिवेदन जानने से पहले आप सभी को इस की परिभाषा का पता होना चाहिए इसके लिए आप सभी को हमारा यह  आर्टिकल  को पूरा पढ़ना होगा तभी आप सभी समूह की महिलाये  इसकी जानकारी प्राप्त कर पाएंगी 

स्वयं सहायता समूह में मानसिक प्रतिवेदन की परिभाषा क्या है


स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को 1 महीने में जो भी ग्राम संगठन का काम काज है उसको या फिर उस जानकारी को पता  करने वाली प्रतिवेदन को हम मानसिक प्रतिवेदन कहते हैं


स्वयं सहायता समूह में मानसिक प्रतिवेदन लिखने से क्या लाभ है

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के मानसिक प्रतिवेदन लिखने से लाभ के बारे में चलिए हम लोग जानते हैं

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को  ग्राम संगठन का जो काम काज है वह मानसिक प्रतिवेदन से ही पता चलता है

  • स्वयं सहायता समूह में मानसिक प्रतिवेदन के आधार से ही आप सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन का काम काज का सीएलएफ के मूल्यांकन देने में समय को आसान होता है

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन की बैठक हुआ है कि नहीं हुआ है इसकी जानकारी के बारे में ग्राम संगठन में बैठक करने से पता चलता है

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन में जाने से ऋण वसूली या ऋण नहीं वसूले जा रहे हैं इन सभी बातों का पता चलता है और नए ऋण कौन कौन ले रहा है इन सभी बातों का भी पता चलता है

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आय और व्यय विवरण का भी पता चलता है

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन के ही द्वारा की गई सरकारी योजनाओं और सामाजिक कार्यक्रमों के बारे में जानकारियां पता चलता है

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मानसिक प्रतिवेदन लिखने का तरीका

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मानसिक प्रतिवेदन ग्राम संगठन की सहायता को हर महीने लिखकर ग्राम संगठन में पढ़कर सुनाना चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन के प्रतिनिधियों के माध्यम से संकुल स्तरीय  संगठन CLF को भेजना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मानसिक प्रतिवेदन में ग्राम संगठन बैठक का दिनांक लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को समूह को उपस्थित विवरण लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को भी हो प्राप्त ऋण और ऋण भुगतान को लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आय व्यय का विवरण लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को महीने के अंत में ग्राम संगठन में नगद शेष राशि और बैंक राशि का विवरण लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को महीने में ग्राम संगठन बैठक में सूचना ऋण योजना के माध्यम से जितने भी नए ऋण मंजूर किए गए उस ऋण  का विवरण लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह में ग्राम संगठन में किए गए ट्रेनिंग विवरण का को लिखना चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन में किए गए सरकारी योजनाओं और सामाजिक कार्यक्रमों को विवरण लिखना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन के मोहर लगाकर दाएं तरफ प्रतिनिधियों का हस्ताक्षर करवा लेना चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह को ग्राम संगठन की सहायिका का हस्ताक्षर बाएं तरफ करवाना ही चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कार्बन पेपर उपयोग करके दो कॉपी तैयार करके पहला कॉपी CLF को और भेजना ही चाहिए और साथ ही साथ दूसरा कॉपी ग्राम संगठन में रखना चाहिए

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को ग्राम संगठन का ऋण DCB और बैंक DCB का पत्र को लिखकर मानसिक प्रतिवेदन के साथ चिपकाना है और उसी प्रतिवेदन को संकुल स्तरीय संगठन को भेजना ही चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published.