स्वयं सहायता समूह में नौकरी 2022 | स्वयं सहायता समूह में CRP सीआरपी की नई नौकरी

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को समूहों के गठन करने के लिए सीआरपी बुलाया जाता है सीआरपी की टीम दूसरे जिलों में जाकर स्वयं सहायता समूह को गठन करती है प्रत्येक सीआरपी को मानदेय के रूप में ₹500 प्रतिदिन दिया जाता है आइए जानते हैं इस आर्टिकल के मदद से कि आप सभी लोग सीआरपी कैसे बन सकते हैं


ग्राम संगठन को आंतरिक सी.आर.पी. के चयन प्रक्रिया में सहजीकरण | चयनित सी.आर.पी का

आंतरिक सी.आर.पी को क्षमतावर्धन हेतु, उनकी क्षमताओं का आंकलन एवं समयबद्ध प्रशिक्षण रोस्टर एवं सी.आर.पी प्रोफाइल तैयार करना । का आयोजन करना |

गुणात्मक सी.आर.पी दलों का गठन 

आन्तरिक सी.आर.पी. मांग करने वाले ब्लॉक मिशन ईकाई के दायित्व


सी.आर.पी चरण हेतु ग्रामों का चयन एवं चयनित ग्रामों में सी.आर.पी. चरण हेतु संपर्क करना एवं वातावरण तैयार करना ।

सी.आर.पी दलों को लाने, उनके रहने एवं ठहरने की व्यवस्था ।

सी.आर.पी दलों को चरण से सम्बंधित स्टेशनरी एवं प्रशिक्षण हेतु सामग्री उपलब्ध सी.आर.पी. चरण की साप्ताहिक प्रगति जिला मिशन ईकाई को प्रेषित करना |

सी.आर.पी चरण के दौरान किये जा रहे कार्यों में सहयोग प्रदान करना

|

ग्राम सभा, आम सभा एवं डीब्रीफिंग सभा का आयोजन करना। सी.आर.पी दलों द्वारा किये जा रहे समूह गठन एवं प्रशिक्षण के कार्यों का निरिक्षण करना |

जिला मिशन इकाई के दायित्व 

. चरण के दौरान गठित हुए एस.एच.जी. में अभिलेखों की उपलब्धता को सुनिश्चित करना । सी.आर.पी. द्वारा बिल प्रेषित होने के 10-20 दिनों के भीतर सम्बंधित जिला ईकाई द्वारा

समयबद्ध भुगतान करना |

सी.आर.पी. दल के सदस्यों की सी.आर.पी. चरण के दौरान सुरक्षा को सुनिश्चित करना एवं करवाना |

सी.आर.पी द्वारा किये जा रहे कार्य की गुणवत्ता का आंकलन, समयबद्ध प्रशिक्षण का आयोजन

एवं उसकी गुणवता सुनिश्चित करना ।

सी.आर.पी. चरण की रिपोर्ट तैयार करना

Leave a comment

Your email address will not be published.