गांवों में खुल रहे रोजगार के नए द्वार मजबूत हो रहा स्वयं सहायता समूहों का नेटवर्क

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं 

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मेरे पीछे नमस्कार आप सभी को हमारे प्रेरणा टीवी चैनल के तरफ से भी दीदी नमस्कार अगर अभी तक आपने हमारे प्रेरणा टीवी चैनल को सब्सक्राइब नहीं किया है तो जल्दी से जल्दी सब्सक्राइब कर लें क्योंकि आप सभी को डिवेलप से जुड़ी उसके साथ-साथ केंद्र सरकार के द्वारा जो भी योजनाएं चलाई जाएंगी सबसे पहले अवगत कर दिया जाएगा तो इसके लिए  सबसे पहले आपको हमारे चैनल टीवी चैनल को सबस्क्राइब करना होगा अगर दीदी आपके समूह में कोई हो रही है दिक्कत तो उनसे बात कर सकती हैं जी हां हमारा मोबाइल नंबर लिख सकती है जो कि मेरा कांटेक्ट नंबर भी है और व्हाट्सएप नंबर दिए हैं तो चलिए है नंबर वन क्षेत्र ज़्यां 60 हमारा मोबाइल नंबर व्हाट्सएप नंबर दे दी दोनों आप हमें मैसेज कर सकते हैं कॉल भी कर सकती है कि कॉल थोड़ा सा रिसीवर होता है क्योंकि मैं व्यस्त आ रहा था मेरे पास काफी तो आप मुझे मैसेज कर सकते हैं अगर आपके पास में कोई दिक्कत तो जी हां चलिए अब बात करते हैं की तरफ आते हैं जैसा कि आप हमारे वीडियो के द्वारा अगर मुझे तो मैं अपना नंबर आपको दे आपको सुझाव देने के लिए इसलिए आप सभी से निवेदन है कि प्लीज सब्सक्राइब करें और हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें क्योंकि हमारे सब्सक्राइबर नहीं मैं आप सभी की तरह संपूर्ण मदद नहीं कर पा रही हूं इसलिए मुझे तो प्लीज सब्सक्राइब है कि इसके तहत कि बहुत सारी मदद कर सकती हूं तो चलिए अब बात करते हैं टॉपिक पर गांव में रोजगार के नए द्वार को मजबूत हो रहा है स्वयं सहायता समूह का नेटवर्क आधे गांव में खेल रहे हैं रोजगार के नए द्वार 11 योजना जो हल्दी आ रही है स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के लिए और समूह का नेटवर्क बहुत तेजी से बढ़ रहा है और समूह की महिलाएं मजबूत सकते हो रही हैं उत्तर प्रदेश में इस समय करीब 65 लाख समूहों के माध्यम से करीब 40 लाख से अधिक महिलाएं जुड़ी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने जहां पूरा देश संकट के दौर से गुजर रहा है उत्तर प्रदेश के गांव में रोजगार के दरवाजे खोल दो में कुल रहे हैं प्रदेश सरकार का जी हां प्रदेश सरकार का 2014 तक ध्यान दें 2014 तक इसमें 2021 चल रहा है 2014 तक समूह के माध्यम से 1 करोड़ ग्रामीण महिलाओं को रोजगार देने का लक्ष्य है इसी क्रम में स्वयं सहायता समूह का नेटवर्क अब राज्य के बाकी 23 जिलों में बढ़ाया जा रहा है इन जिलों में स्वयं सहायता समूह का काम करेंगी कौन सा काम करेंगे उदित जी हां इन जिलों में समूह के गठन का काम शुरू भी हो गया है साथ ही कदम-कदम पर ठोकरें खाकर किसी तरह शहरों से पलायन करके अपने गांव में पहुंचे प्रवासी मजदूर परिवारों की महिलाओं को भी पुराने समूह से जुड़ने का काम युद्धस्तर पर किया जा रहा है प्रवासी मजदूर कौन है तो हम यहां प्रवासी मजदूर मुंबई कोलकाता दिल्ली रहते थे अपने घर वापस आ रहे हैं तो प्रवासी मजदूर लोग हमारे आपके घर के मेंबर तो उन लोगों के लिए काफी बड़े स्तर पर काम किया जा रहा है कि स्वयं सहायता समूह का गठन तेजी से हो 

महिलाएं रोजगार से सीधे जुड़ सकें

 इससे जुड़ी महिलाएं रोजगार से सीधे जुड़ सकें अ कि इसके लिए एक विस्तृत एक्शन प्लान बनाया गया है प्रदेश के इन जिलों में समूह की सक्रियता बढ़ाने के लिए उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अपने अधिकारियों और कर्मचारियों की तैनाती भी कर रहा है प्रदेश में इस समय करीब 3.5 लाख समूहों के माध्यम से करीब 40 लाख से अधिक महिलाएं जुड़ी है हालांकि इन समूहों में तमाम समधी ऐसे हैं जहां पर रोजगार से जुड़ी कोई गतिविधि नहीं हो रही है है इसके अलावा प्रदेश सरकार का 2014 तक दीदी जी हां 2014 तक समूह के माध्यम से 1 करोड़ ग्रामीण महिलाओं को रोजगार देने का लक्ष्य है इसके लिए नियुक्त समूह को सक्रिय करने को लेकर काम शुरू हो गया है सुधरेगी आर्थिक स्थिति में आजीविका मिशन निदेशक सुजीत कुमार ने बताया कि यूपी में महिला स्वयं सहायता समूह की संख्या बढ़ाकर 10 लाख तक होना है ऐसा होने पर ग्रामीण क्षेत्रों की करीब एक करोड़ महिलाएं आजीविका से जुड़ जाएंगी महिलाओं के आजीवका से जुड़ने का फायदा सीधे उनके परिवार को मिलेगा और उनकी आर्थिक स्थिति सुधरेगी मिशन की तरफ से इस दिशा में तेजी से कई काम किए जा रहे हैं कि इन जिलों में हो रहा है समूह का गठन स्वयं सहायता समूह के नेटवर्क ने जो नाम शामिल नहीं है उन्होंने अमरोहा बलिया बुलंदशहर एटा अयोध्या पर इलाहाबाद गाजीपुर हाथरसजौनपुर कानपुर देहात कासगंज कौशांबी कुशीनगर मथुरा मऊ मुजफ्फरनगर पीलीभीत राय बरेली रामपुर संभल संत रविदास नगर शाहजहांपुर नगर पूर्ण कि शाहजहांपुर और सीतापुर शामिल है और यहां समूहों का गठन शुरू कर दिया गया है इन जिलों में विकास खंडों को समूह के गठन के लिए चिन्हित किया गया इस समय राज्य के कुल 147 ब्लैकमेल समूह बनाए जा रहे हैं अब तक 453 इलाकों में आतंकी गतिविधियां संचालित हो रही थी अगले वित्तीय वर्ष में सभी ब्लाकों में समूह को एक्टिव कर दिया जाएगा जैसा कि आप जानते हैं कि समूह में कई प्रकार के काम आ रहे हैं

सामुदायिक शौचालय बिजली हर प्रकार के काम में दिए जा रहे हैं 

 जैसे कि सामुदायिक शौचालय बिजली हर प्रकार के काम में दिए जा रहे हैं और समूह में दो घर के कुछ आय अर्जित कर रही है इसी प्रकार कुछ दे दिया समूह से पैसे लेकर खुद का रोजगार अपना शुरू करके भी आयोजित कर रही है समूह में जुड़ने से काफी फायदे हैं यदि आप लोग प्लीज समूह में जुड़िए पहले आपको समुद्र नियम समझना होगा क्योंकि कुछ दिया करती है समूह विकार है झड़ने से कोई फायदा नहीं है तो ऐसी बात नहीं यदि आप सभी से निवेदन है कि पहले आप समूह के बारे में अच्छे से जानिए का समूह है क्या तो अगर आपको ऐसा लगता है कि समुच्चय अच्छा नहीं है तो आपसे निवेदन करुंगी प्लीज मेरे वीडियो को आप देखिए और समझिए कि समूह में कितनी तेजी से रोजगार दिए जा रहे हैं और समूह में जुड़ने से काफी पाए हैं तो चलिए आज की वीडियो में बस इतना ही अगर आपको हमारा वीडियो पसंद आए तो लाइक सबस्क्राइब और शेयर जोकर जिसमें विटामिन कहती है वह तो प्लीज लाइक करें कमेंट करें शेयर करें लाइक करें सब्सक्राइब जरूर करले और सारी गुजिया सब्सक्राइब करवा लें क्योंकि जब तक आप हमारा साथ नहीं देंगी हम आपका पूरी तरह से साथ नहीं दे पा रहे हैं इसके लिए मुझे खेद है कि मुझे 1 लाइक 1 लाख सब्सक्राइब की जरूरत है अब तो मैं पूरी तरह आपकी मदद कर पाऊंगी तो चलिए दीदी आज के लिए धन्यवाद फिर मिलेंगे किसी नई ब्लाग में !

Leave a comment

Your email address will not be published.